Mars Planet in Hindi

0
386
Mars Planet in Hindi
Mars Planet in Hindi

Mars Planet in Hindi:- Today I am providing Information about Mars Planet in Hindi GK questions and answers for competitive exams. You can easily get 2-3 marks with the help of Information of Mars Planet in Hindi GK Questions and answers for Competitive Exams. This post of About Mars Planet in Hindi GK Questions for Competitive Exams is very very important.

It is observed that in almost all types of competitive exams, questions based on the Latest news about Mars Planet in Hindi are asked. So in this article, we have compiled 500 important and tough questions on the different sections of the History of Mars Planet in Hindi that would be very useful for all types of competitive exams like UPSC, PSC, SSC, CDS and others.

Mars Planet in Hindi

Join Our Telegram Channel For PDF Files

No.-1. पृथ्वी की सतह से मंगल ग्रह को नंगी आंखों से देखा जा सकता है।

No.-2. मंगल पर वातावरण का दबाव पृथ्वी की तुलना में बहुत कम है इसलिए वहां जीवन होने की कम संभावनाएं हैं।

No.-3. मंगल ग्रह के दोनों ध्रुवों पर बर्फ पाई जाती है। वहां पानी और कार्बन डाइऑक्साइड की बर्फ की परत दिखाई देती है।

No.-4. मार्स एक्सप्रेस नाम के कृत्रिम उपग्रह ने मंगल ग्रह की कक्षा में चक्कर काटते हुए यह जानकारी दी थी।

No.-5. सौरमंडल में फोबोस उपग्रह अपने ग्रह से सबसे कम दूरी वाला उपग्रह है।

No.-6. मंगल की सतह से फोबोस ग्रह की दूरी मात्र 6000 किलोमीटर है जबकि पृथ्वी की चंद्रमा से दूरी 3,84000 किलोमीटर है।

No.-7. मंगल ग्रह की सतह पर वायुमंडलीय दबाव बेहद कम है, यही कारण है कि इसकी सतह पर लंबे समय तक तरल पानी मौजूद नहीं रह सकता.

No.-8. मंगल ग्रह को सूर्य के चारों ओर एक पूर्ण चक्रर लगाने में पृथ्वी से दोगुना समय लगता है.

No.-9. यदि हम पृथ्वी के साथ मंगल के घनत्व की तुलना करते हैं, तो हम पाएंगे कि यह पृथ्वी की तुलना में 100 गुना कम है.

No.-10. मंगल का अक्षीय झुकाव 25.19 डिग्री है। यह पृथ्वी के अक्षीय झुकाव से अधिक है।

No.-11. क्या आप जानते है Mars पृथ्वी के व्यास के आधे से भी कम है.

No.-12. मंगल ग्रह का ध्रुवीय व्यास: 6,752 किमी व् द्रव्यमान: 6.42 x 10 ^ 23 किग्रा है.

Information about Mars Planet in Hindi

No.-13. मंगल ग्रह के दो प्राकृतिक उपग्रह (चन्द्रमा) है जिनका नाम क्रमश : Phobos & Deimos है.

No.-14. मंगल ग्रह की कोर को लेकर अभी तक अंतरिक्ष विज्ञानिको को पूरी सफलता नहीं मिली है.

No.-15. आपकी जानकारी के लिए बता दे मंगल ग्रह की सतह ठोस, तरल या दो अलग-अलग परतों से बनी है इस पर विज्ञानिको में मतभेद रहे है.

No.-16. मंगल ग्रह पर जीवन की खोज करने के लिए अभी तक कुल 8 अभियान किए गए हैं जिसमें 7 अभियान अमेरिका ने और एक अभियान भारत ने किया है।

No.-17. मंगल ग्रह के उपग्रह फोबोस पर एक बड़ा क्रेटर स्टीकनी है। इसका नाम उसके खोज करने वाले वैज्ञानिक हाल की पत्नी के नाम पर रखा गया है।

No.-18. मंगल ग्रह का पड़ोसी ग्रह जिसे बृहस्पति ग्रह के नाम से जाना जाता है, अपने विशाल आकार के कारन मंगल की कक्षा को प्रभावित करने की क्षमता रखता है.

No.-19. क्या आप जानते है March महीने का नाम Mars से ही निकला है.

No.-20. मंगल ग्रह पर 1960 में पहला अंतरिक्ष यान लॉन्च किया गया था, हालाँकि, यह मिशन विफल रहा.

No.-21. मंगल ग्रह की सूर्य से दुरी लगभग 142 मिलियन मील है.

No.-22. मंगल गृह पर एक दिन की लंबाई 24 घंटे 37 मिनट की होती है व् एक वर्ष 687 दिन का होता है.

No.-23. मंगल ग्रह द्वारा सूर्य की परिक्रमा की औसत गति 14.5 मील प्रति सेकंड के करीब है.

No.-24. मंगल ग्रह का औसत घनत्व 3,933 किलोग्राम / मीटर क्यूब (पृथ्वी के औसत घनत्व का लगभग 71%) के करीब है.

No.-25. Mars ग्रह का औसत तापमान -81 डिग्री सेल्सियस व् इस ग्रह पर गैसों में ज्यादातर कार्बन डाइऑक्साइड, आर्गन, ऑक्सीजन, नाइट्रोजन गैस मौजूद हैं.

Information of Mars Planet in Hindi

No.-26. हाल ही में NASA JPL के Mars Orbiter द्वारा मंगल की सतह पर कृमि जैसे एलियंस को देखा गया है, आपकी जानकारी के लिए बता दे यह अंतरिक्ष यान पिछले 11 वर्षों से मंगल की परिक्रमा कर रहा है.

No.-27. मंगल में हवा, पानी, बर्फ और भूविज्ञान की एक प्रणाली है; अन्य शब्दों में, इसका एक वातावरण, एक जलमंडल, एक क्रायोस्फीयर और एक स्थलमंडल है.

No.-28. मंगल सूर्य से चौथा ग्रह है और स्थलीय ग्रहों में अंतिम ग्रह के रूप में जाना जाता है जोकि सूर्य से लगभग 227,940,000 किमी दूर है.

No.-29. युद्ध के रोमन देवता Mars के नाम पर इस ग्रह का नाम Mars Planet पड़ा.

No.-30. मंगल ग्रह का व्यास 6792 किलोमीटर है।

No.-31. ऐसा माना जाता है कि एलियन जीवो का कपाल (खोपड़ी) मंगल ग्रह पर मिला था।

No.-32. मंगल की सतह का गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी पर पाया जाने वाला गुरुत्वाकर्षण का लगभग 37% है.

No.-33. मंगल का गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण से कम होने के कारन मंगल ग्रह पर आप पृथ्वी की तुलना में 3x अधिक उछल सकते हैं.

No.-34. मंगल ग्रह की अधिक जानकारी जुटाने के लिए अब तक 39 अंतरिक्ष मिशनों को अंजाम दिया जा चूका है, लेकिन इन सभी मिशनों में से  से केवल 16 ही सफल रहे हैं.

No.-35. सौरमंडल में ज्ञात सबसे ऊँचा ज्वालामुखी पर्वत मंगल ग्रह पर है. Olympus Mons एक 21 किमी ऊंचा और 600 किमी व्यास का ढाल ज्वालामुखी है जो अरबों साल पहले बना था.

No.-36. विज्ञानिको का मानना है की यह ज्वालामुखी वर्तमान में भी सक्रिय है.

About Mars Planet in Hindi

No.-37. मंगल ग्रह का गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण का एक तिहाई (1/3) है। इसका अर्थ है कि यदि मंगल पर कोई वस्तु या चट्टान गिरती है तो वह बहुत धीमी रफ्तार से गिरेगी।

No.-38. मंगल ग्रह के दो चंद्रमा है फोबोस (Phobos) और डीमोस (Diemos) फोबोस डीमोस से बड़ा है।

No.-39. फोबोस का ग्रीक भाषा में अर्थ होता है “भय”। इसलिये ग्रीक लोग मंगल को “भय का देवता” भी कहते थे। वह फोबोस उपग्रह को “शुक्र का बेटा” भी कहते थे।

No.-40. नासा समेत पुरे विश्व के अंतरिक्ष विज्ञानिको में मंगल ग्रह को लेकर विशेष रूचि देखी जाती है, मंगल पर जीवन की संभावना को खोजने के प्रयास में, वैज्ञानिक आमतौर पर मंगल ग्रह पर पानी और जीवों के प्रमाण खोजने में रुचि रखते हैं.

No.-41.  “Seek Signs Of Life” नासा की एक अन्वेषण रणनीति है जिसे नासा वर्तमान में मंगल पर जीवन की संभावनाओं का पता लगाने के लिए अनुसरण कर रहा है.

No.-42. मंगल ग्रह पर कभी-कभी धूल भरे तूफान उड़ते रहते हैं। ये मंगल ग्रह को पूरी तरह घेर लेते हैं।

No.-43. मंगल ग्रह पर पृथ्वी के समान ही ऋतुएं पाई जाती हैं परंतु उनका समय दोगुना होता है।

फोबोस उपग्रह पर गुरुत्वाकर्षण बल पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण का 1000 वां हिस्सा है। यदि पृथ्वी पर कोई वस्तु 68 किलोग्राम की है तो उसका वजन फोबोस पर 68 ग्राम होगा।

No.-44. नासा के अनुसार, पृथ्वी से मंगल की यात्रा करने में लगभग ढाई साल लगते है.

No.-45. मंगल ग्रह का व्यास पृथ्वी के व्यास के आधे से भी कम है

No.-46.  नासा समूचे विश्व में एकमात्र अंतरिक्ष अन्वेषण एजेंसी है जो अब तक मंगल पर उतरने में कामयाब रही है.

No.-47. क्या आप जानते है पृथ्वी की सतह से बुध, बृहस्पति, मंगल, शनि, और शुक्र को नग्न आंखों से देखा जा सकता है .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.