Human Rights Day

Human Rights Day

मानवाधिकार दिवस (Human Rights Day):- In this post we share Human Rights Day in Hindi, Poem on Human Rights Day in Hindi etc.दुनिया भर में हर साल 10 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस मनाया जाता है. संयुक्त राष्ट्र (United Nations) ने 10 दिसंबर (10 December) 1948 को इस दिन को अपनाने की घोषणा की. हालांकि आधिकारिक तौर पर इस दिन की घोषणा 1950 में हुई.
In this post we comes with Speech on Human Rights Day in Hindi, Human Rights Day in Hindi language, International Human Rights Day in Hindi.
अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस’ (International Human Rights Day) मनाने के लिए असेंबली ने सभी देशों को 1950 में आमंत्रित किया. जिसके बाद असेंबली ने 423 (V) रेज़्योलुशन पास कर सभी देशों और संबंधित संगठनों को इस दिन को मनाने की सूचना जारी की थी.
In this post we share 10 December Human Rights Day in Hindi, World Human Rights Day in Hindi, Essay on Human Rights Day in Hindi, Short speech on Human Rights Day in Hindi.

Human Rights Day

मानवाधिकार दिवस को कैसे मनाया जाता है?

इस दिन मानवाधिकार के मैदान में पांच वर्षीय संयुक्त राष्ट्र पुरस्कार और नोबेल पीस प्राइज दिया जाता है। शिक्षण संस्थानों, गैर सरकारी संस्थानों और सरकारी प्रतिष्ठानों में कार्यक्रमों का आयोजन होता है जिसमें मानवाधिकार पर प्रकाश डाला जाता है।
क्या है मानवाधिकार
हर इंसान को जिंदगी, आजादी, बराबरी और सम्मान का अधिकार ही मानवाधिकार है. भारतीय संविधान इस अधिकार की न सिर्फ गारंटी देता है, बल्कि इसे तोड़ने वाले को अदालत सजा देती है. भारत में 28 सितंबर, 1993 से मानवाधिकार कानून अमल में आया. 12 अक्‍टूबर, 1993 में सरकार ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का गठन किया.
हम कह सकते हैं कि मानव अधिकार वह मानदंड हैं जो मानव व्यवहार के मानकों को स्पष्ट करते हैं. एक इंसान होने के नाते ये वो मौलिक अधिकार हैं जिनका प्रत्येक व्यक्ति स्वाभाविक रूप से हकदार है. ये अधिकार कानून द्वारा संरक्षित हैं.

Human Rights Day in Hindi

जीवन का अधिकार:- प्रत्येक व्यक्ति के पास अपना स्वतन्त्र जीवन जीने का जन्मसिद्ध अधिकार है.

न्याय का अधिकार:- प्रत्येक व्यक्ति को निष्पक्ष न्यायालय द्वारा निष्पक्ष सुनवाई का अधिकार है. इसमें उचित समय के भीतर सुनवाई, जन सुनवाई और वकील के प्रबंध आदि के अधिकार शामिल हैं.

सोच, विवेक और धर्म की स्वतंत्रता

प्रत्येक व्यक्ति को विचार और विवेक की स्वतंत्रता है, उसे अपने धर्म को चुनने की भी स्वतंत्रता है और अगर वह इसे किसी भी समय बदलना चाहे तो उसके लिए भी स्वतंत्र है.
दासता से स्वतंत्रता
गुलामी और दास प्रथा पर कानूनी रोक है. हालांकि यह अब भी दुनिया के कुछ हिस्सों में इसका अवैध रूप से पालन किया जा रहा है.
अत्याचार से स्वतंत्रता
अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत अत्याचार देने पर प्रतिबंध है. हर व्यक्ति अत्याचार न सहने के लिए स्वतंत्र है.

Poem on Human Rights Day in Hindi

मानवाधिकार अहम क्यों है?
1मानवाधिकार के तहत लोगों को अपनी बुनियादी जरूरतों खाना, कपड़ा, मकान और शिक्षा को पूरा करने के लिए जरूरी साधन की भी गारंटी दी जाती है। कई बार सत्ता के नशे में सरकार या सरकारी अथॉरिटी लोगों का उत्पीड़न करती है। ऐसे में मानवाधिकार से उनको जीवन, आजादी, समानता और सुरक्षा की जमानत मिलती है।
मानवाधिकार दिवस 2019 की थीम क्या है?
इस साल की थीम, ‘स्थानीय भाषा का साल: मानवाधिकार संस्कृति को बढ़ावा देना और मजबूती प्रदान करना’ है। 2018 में थीम ‘मानवाधिकार के लिए खड़े हों’ थी। 2017 की थीम ‘समानता, न्याय और मानवीय मर्यादा के लिए खड़े हों’ थी।
मानवाधिकार की शुरुआत कब से हुई?
ऐसा माना जाता है कि मानवाधिकार के लिए ईसा पूर्व 539 सदी में काम किया गया था। जब साइरस महान की फौज ने बेबीलॉन को जीत लिया तो साइरस ने गुलामों को आजाद कर दिया। उन्होंने घोषणा की थी कि सभी लोगों को अपना धर्म चुनने की आजादी है और नस्लीय समानता स्थापित किया।

Speech on Human Rights Day in Hindi

कौन से अधिकार अहम हैं?
आठ में से पांच देशों में वोट देने की आजादी को सबसे अहम अधिकार माना गया। संयुक्त राज्य अभिव्यक्ति की आजादी को सर्वाधिक अहम मानवाधिकार मानता है। जर्मनी में भी बोलने की आजादी को सबसे ज्यादा महत्व दिया जाता है।
मानवाधिकार का पिता किसको कहा जाता है?
प्रफेसर हेनकिन को मानवाधिकार का पिता कहा जाता है। उन्होंने दूसरे विश्वयुद्ध के बाद अंतरराष्ट्रीय कानून को आकार देने में अहम भूमिका निभाई थी। कोलंबिया यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ लॉ में पांच दशक के लंबे करियर में उन्होंने इंटरनैशनल लॉ के मैदान में काफी काम किया।
दक्षिण अफ्रीका में 21 मार्च को क्यों मनाया जाता है मानवाधिकार दिवस?
इसका कारण दक्षिण अफ्रीका के इतिहास की बहुत ही बर्बर और दर्दनाक घटना है। इस घटना को शॉर्पविले जनसंहार के नाम से जाना जाता है। दक्षिण अफ्रीका में शॉर्पविले शहर में अश्वेत लोगों ने सरकार की नस्लीय भेदभाव की नीति के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। पुलिस ने विरोध कर रहे अश्वेत लोगों पर गोली चला दी थी। गोली चलाने की वजह से करीब 250 लोगों की मौत हो गई और कुछ जख्मी हो गए। यह दक्षिण अफ्रीका के रंगभेद के इतिहास में सबसे पहला और सर्वाधिक हिंसक प्रदर्शन था।

Human Rights Day in Hindi language

अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस क्यों मनाया जाता है?
मानवाधिकार दिवस (Human Rights Day) लोगों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से मनाया जाता है. मानवाधिकार में स्वास्थ्य, आर्थिक सामाजिक, और शिक्षा का अधिकार भी शामिल है. मानवाधिकार वे मूलभूत नैसर्गिक अधिकार हैं जिनसे मनुष्य को नस्ल, जाति, राष्ट्रीयता, धर्म, लिंग आदि के आधार पर वंचित या प्रताड़ित नहीं किया जा सकता.
भारत में मानवाधिकार
भारत में मानवाधिकार कानून 28 सितंबर 1993 में अमल में आया. जिसके बाद सरकार ने 12 अक्टूबर 1993 को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का गठन किया. मानवाधिकार आयोग राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्षेत्रों में भी काम करता है. जैसे मज़दूरी, HIV एड्स, हेल्थ, बाल विवाह, महिला अधिकार. मानवाधिकार आयोग का काम ज्यादा से ज्यादा लोगों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करना है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top