Children's Day in Hindi

Children’s Day in Hindi

Children’s Day in Hindi:- हम सब लोग अपने बचपन से ही हर साल बाल दिवस या Children’s Day को मनाते आ रहे हैं. परन्तु क्या आपने कभी सोचा है कि 14 नवंबर को ही क्यों इसे मनाया जाता है?
भारत में बाल दिवस कैसे मनाया जाता है इत्यादि जैसे प्रश्नों के उत्तर को जानने के लिए आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं.
भारत में 14 नवंबर को हर वर्ष पूरे उत्साह के साथ बाल दिवस (Children’s Day) मनाया जाता है. बच्चे मन के सच्चे होते हैं और प्रत्येक माता पिता के लिए इश्वर का दिया हुआ सबसे बड़ा उपहार होते हैं. इस दिवस को मनाने के पीछे सबसे बड़ी प्रेरणा भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु का बच्चों के प्रति प्रेम और लगाव था.
बाल दिवस बच्चों को समर्पित भारत का राष्ट्रीय त्योहार है। देश की आजादी में भी नेहरू का बड़ा योगदान था।

Children’s Day in Hindi

प्रधानमंत्री के रूप में उन्होंने देश का उचित मार्गदर्शन किया था। बाल दिवस बच्चों के लिए महत्वपूर्ण दिन होता है। इस दिन स्कूली बच्चे बहुत खुश दिखाई देते हैं। वे सज-धज कर विद्यालय जाते हैं। विद्यालयों में बच्चे विशेष कार्यक्रम आयोजित करते हैं।
वे अपने चाचा नेहरू को प्रेम से स्मरण करते हैं। बाल मेले में बच्चे अपनी बनाई हुई वस्तुओं की प्रदर्शनी लगाते हैं। इसमें बच्चे अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं। नृत्य, गान, नाटक आदि प्रस्तुत किए जाते हैं। नुक्कड़ नाटकों के द्वारा आम लोगों को शिक्षा का महत्व बताया जाता है।
14 नवंबर, 1889 को देश के प्रथम प्रधानमंत्री और बच्चों के चहेते पंडित जवाहर लाल नेहरू जी की जंयती को हम सभी भारतवासी बाल दिवस के रुप में मनाते हैं।
पंडित नेहरू को बच्चों से अत्याधिक प्रेम और स्नेह था, इसलिए उनकी जयंती को बच्चों के लिए समर्पित किया गया है। इस दिन न सिर्फ पंडित नेहरू को सच्चे मन से श्रद्धांजली अर्पित की जाती है, बल्कि बच्चों को उनके शिक्षा, स्वास्थ्य संबंधित अधिकारों के प्रति भी जागरूक किया जाता है।

बाल दिवस पर टॉप कवितायें – Poem on Children’s Day in Hindi

आज के समय में किसी के पास ज्यादा समय नहीं है इसलिए मै आपको बता हूँ की आपके समय की कीमत को मै समझता हूँ इसलिए आपके लिए बाल दिवस पर कविता – Poem on Children’s Day in Hindi Language में लेकर आया हूँ.

Poem on Children’s Day in Hindi – बाल दिवस पर कविता हिंदी में

सूरज निकला मिटा अँधेरा,
देखो बच्चों हुआ सवेरा.
आया मीठी हवा का फेरा,
चिड़ियों ने फिर छोड़ा बसेरा.
जागो बच्चों अब मत सोओ,
इतना सुंदर समय न खोओ…

Children’s Day Poem in Hindi – 14th November Poem in Hindi

बाल-दिवस है आज साथियों, आओ खेले खेल,
जगह-जगह पर मची हुई खुशियों की रेलमरेल.
बरसगांठ चाचा नेहरू की फिर आई है आज,
उन जैसे नेता पर सारे भारत को है नाज.
वह दिल से भोले थे इतने, जितने हम नादान,
बूढ़े होने पर भी मन से वे थे सदा जवान.
हम उनसे सीखे मुस्काना, सारें संकट झेल,
बाल-दिवस है आज साथियों, आओ खेले खेल.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top